DW (हिन्दी)

at Kurt-Schumacher-Straße 3, Bonn, 53113 Germany

हम लाते हैं आपके लिए अहम खबरें. अपनी राय दें और करें दुनिया भर के मुद्दों पर हमारे साथ चर्चा. Welcome to our Facebook page! Deutsche Welle represents Germany in the international media landscape. We fulfill this mission with a full range of television, radio and online services. DW is known for its in-depth, reliable news and information in 30 languages – in Arabic and Kiswahili, Indonesian and Urdu, Russian and Spanish, German and English and many more. More than 1,500 employees and hundreds of freelancers from 60 countries work in our headquarters in Bonn and Berlin. Deutsche Welle is regulated by public law and financed by federal tax revenue. Our DW Akademie (www.dw-akademie.com) provides advanced media training and consulting services for media professionals, journalists, documentary producers, digital media and broadcast engineers and media executives around the world.


DW (हिन्दी)
Kurt-Schumacher-Straße 3
Bonn 53113
Germany
Contact Phone
P: ---
Website
http://dw.com/hindi

Description

Legal Notice: http://bit.ly/dwlegalnotice Germany’s international broadcaster conveys the country as a nation rooted in European culture and as a liberal, democratic state based on the rule of law. Anchored in journalistic independence, DW presents events and developments in Germany and the world. It promotes exchange and understanding between the world's cultures and peoples. Deutsche Welle also provides formats for people learning and teaching the German language. www.dw.com Please note: This forum is meant to encourage the free exchange of opinions, information and ideas. Please observe our netiquette guidelines. http://www.dw.com/dw/article/0,,5300954,00.html Comments that violate these principles will be removed and, if applicable, reported to Facebook. We also maintain the right to block users who repeatedly violate our guidelines. Please also abide by the Facebook Terms of Service. http://www.facebook.com/terms.php?ref=pf

Company Rating

1089152 FB users likes DW (हिन्दी), set it to 1 position in Likes Rating for Bonn, Germany in Media/News Company category

जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल पर शरणार्थी नीति को सख्त करने का दबाव बढ़ता जा रहा है. dw.com/p/1Hc2r

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 18:32:00 GMT

ऑटो ब्रूअरी सिंड्रोम एक ऐसी मेडिकल स्थिति है जिसमें शरीर के भीतर ही नशीला रसायन पैदा होने लगता है.

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 18:05:00 GMT

#BLOG इसी देश में तंदूर कांड भी हुआ था. इसी देश में हर मिनट बलात्कार होते हैं, इसी देश में पत्नी की लाश को फ्रिज में टुकड़े टुकड़े कर डाल दिया जाता है, इसी देश में आज दिख रहा है कि कैसे एक युवा, एक बुजुर्ग पर बेरहम है.

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 17:32:00 GMT

जानिए क्यों #मदाया में लोग घास और पत्तियां तक खाने को मजबूर हो गए.

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 16:30:00 GMT

तस्वीरों में जानिए, क्या है #जल्लीकट्टू

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 15:33:00 GMT

क्या देश को पुरुष सुरक्षा कानून की जरूरत है? क्या दहेज कानून का गलत इस्तेमाल हो रहा है? आपको क्या लगता है? #cctv #bijnor

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 14:33:56 GMT

बिजनौर की वारदात एक बहू के सास पर अत्याचार की दास्तान ही नहीं है, ये सामाजिक मूल्यों में भयावह गिरावट का प्रतीक है. #cctv

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 13:35:02 GMT

इस वीडियो में पहली बार आप यह देख सकेंगे कि वैज्ञानिक अगले कुछ दशकों में मंगल ग्रह पर इंसानी आबादी को कैसे बसाने की योजना बना रहे हैं. #MissionMars

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 00:01:00 GMT

सीरिया में घेराबंदी के शिकार शहर मदाया में महीनों बाद पहली बार पहुंची राहत सामग्री. संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि भूखमरी के खतरे में पड़े 400 लोगों को वहां से बाहर निकाले जाने की जरूरत है. dw.com/p/1HboC

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 11:01:01 GMT

ब्रिटेन में क्रिसमस की छुट्टियों के दौरान मौसम हैरान करने वाला था. बारिश तो ब्रिटेन के लिए आम बात है लेकिन दिसंबर में 16 डिग्री के आसपास गर्मी क्या जलवायु परिवर्तन की दस्तक नहीं, पूछ रहे हैं डॉयचे वेले के ग्रैहम लूकस.

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 10:01:01 GMT

#OddEven का आपका क्या अनुभव रहा है? साझा करें हमसे.

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 08:01:00 GMT

what do mean by oop?

Published Ashish Bhawsar on 2016-01-12 07:33:51 GMT

1.जिन लोगों के पास एन्ड्रोइड मोबाईल है, 2. जो लोग साइड इनकम करना चाहते है। 3. जो लोग इनटरनेट के द्वारा पैसा कमाना चाहते है। 4. जो लोग ज्यादातर समय नेट पे लगे रहते है। 5. आप सभी के लिये खुशखबरी। बिना कोई इनवेस्ट किए आप अचछी इनकम पा सकते है। 6. जो बन्दा इनट्रस्टेड हो वो मुझे इन नम्बर पर वाट्सअप कर सकता है। 7073030555

Published Mahendra Singh Shaktawat on 2016-01-12 07:15:38 GMT

देखिए कैसी होगी #Mars पर इंसानों की बस्ती, इस #Video में

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 17:02:00 GMT

#मदाया के अस्पताल में पहुंचने पर 400 लोग मिले जो भूखमरी, कुपोषण और बीमारियों के शिकार हैं.#

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 16:01:00 GMT

#जल्लीकट्टू सदियों पुराना खेल है जिसका मतलब होता है, ‘बैलों को काबू करना.' इस अजीब खेल के बारे में और जानकारी..

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 15:01:01 GMT

क्या आपको भी होता है बिना पिए नशा?

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 14:05:41 GMT

क्या महबूबा मुफ्ती को होना चाहिए जम्मू कश्मीर का मुख्य मंत्री? आपकी क्या राय है? #MehboobaMufti

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 13:11:22 GMT

तीन महीने तक भुखमरी से जूझने के बाद आखिरकार सीरियाई शहर मदाया को मानवीय मदद पहुंचनी शुरू हुई. सरकारी सेना से घिरे मदाया की बदहाली बयान करती तस्वीरें. dw.com/p/1Hbnt

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 11:29:00 GMT

भारत के सुप्रीम कोर्ट ने जल्लीकट्टू के खेल पर केंद्र सरकार की अधिसूचना पर रोक लगा दी है. dw.com/p/1HblZ

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 10:31:01 GMT

एक वेट्रेस और नाइटक्लब मालिक के बेटे डेविड बोवी को सही मायने में पहला पोस्ट-मॉडर्न पॉप स्टार माना जाता है.

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 09:32:01 GMT

यूरोपीय स्पेस एजेंसी का मानना है कि चंद्रमा पर अगले पांच सालों में रिसर्च स्टेशन की स्थापना की जा सकेगी.

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 09:01:01 GMT

सबूत आने बाकी हैं, लेकिन यह तय है कि आईएस के इलाके से तेल तुर्की में पहुंच रहा है और आईएस की कमाई हो रही है.

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 08:32:00 GMT

क्या आप सोच सकते हैं कि एक दिन ऐसा भी आएगा जब केले सिर्फ किस्से कहानियों में ही बचेंगे? लगता है वह दिन अब बहुत दूर नहीं है.

Published DW (हिन्दी) on 2016-01-12 07:33:00 GMT

क्या आइसक्रीम या समोसे खाते हुए यह ख्याल आता है कि इससे मोटे हो जाएंगे? लेकिन बाद में पछतावा जरूर होता है. क्यों होता है ऐसा?

!-- Global site tag (gtag.js) - Google Analytics -->